Fempulse - Women's Day edition

Shayari – Dard se mera

Guest post by Roupali

दर्द से मेरा रिश्ता अब काफी पुराना है

खुशियों ने मुंह मोडे बिता एक जमाना है,

फिर भी आखों से नही जाता, खुशियों का इंतजार,

आएगी मेरा पता पुछते, मै भी हुं बेकरार,

दर्द ने कुछ दर्द दिया,

तो कभी दर्द का मजा भी लिया,

दर्द ने बढाई कभी मेरी ताकद,

तो कभी छीना हौसला और हिम्मत,

डरती हुं कभी ये मुझै चुर चुर न कर दे,

मेरी हंसी को कही, मुझसे ही दुर न कर दे,

पर हिम्मत जो दी है उसे आझमाती रहती हूं,

कभी कभी इस दर्द पर मै मुस्कुराती रहती हु…

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button